Open Hours - 9:00 am to 8:30 pm | Monday to Saturday | Book an Appointment Now

हर्निया के ऑपरेशन के बाद क्या सावधानियां जरूरी हैं

हर्निया के ऑपरेशन के बाद क्या सावधानियां जरूरी हैं

हर्निया के इलाज़ का एक मात्र तरीका है ऑपरेशन और ये ऑपरेशन बहुत आवश्यक है यदि आप हर्निया के जानलेवा कॉम्प्लीकेशन्स से बचना चाहते हैं तो।  जैसा की मेरे अन्य ब्लोग्स में मैंने उल्लेख किया है की हर्निया का पता लगते ही मरीज़ को ऑपरेशन के बारे में सोचना चाहिए और जैसे ही संभव हो यथा शीघ्र  ऑपरेशन के लिए हर्निया के विशेषज्ञ सर्जन से संपर्क करना चाहिए। सर्वोत्तम है की हम तुरंत ही ऑपरेशन के लिए तैयार हो जाएँ। 

ऑपरेशन चीरा विधि द्वारा भी किया जा सकता है और दूरबीन विधि द्वारा भी किया जा सकता है जिस के बारे में आप के साथ आप के सर्जन डिटेल में डिसकस करते हैं और आप की सेहत और हर्निया की स्तिथि के हिसाब से आप के लिए बेस्ट ऑपरेशन चुना जाता है।

ऑपरेशन कोई भी हो सिर्फ ऑपरेशन करवा लेने से बात ख़तम नहीं होती। ऑपरेशन तो  इलाज़ का एक हिस्सा मात्र है ।

ऑपरेशन के बाद भी मरीज़ को काफी लम्बे समय तक डॉ के दिए हुए दिशा निर्देश का शब्दशः पालन करना चाहिए। यदि कोई भी मरीज़ दिए हुए सावधानियों को नज़र अंदाज़ करेगा तो उस के ऑपरेशन का रिजल्ट गड़बड़ हो सकता है।  यह बात दोनों विधि के ऑपरेशन पर लागू होती  है। 

आइये इस ब्लॉग के माध्यम से समझते हैं की किसी भी हर्निया के ऑपरेशन के बाद मरीज़ को क्या क्या सावधानियां रखना बहुत जरूरी है।

About Dr. Digant Pathak

Dr. Digant Pathak

डॉ. दिगंत पाठक, जबलपुर अस्पताल, रसल चौक के लैप्रोस्कोपिक और गैस्ट्रो सर्जरी विभाग के प्रमुख हैं। डॉ दिगंत पाठक को 20 वर्षो से अधिक का सर्जिकल अनुभव है एवं वे 10,000 से अधिक सर्जरी सफलपूर्वक कर चुके है जिस में जबलपुर शहर के प्रतिष्ठित और गणमान्य नागरिक शामिल हैं। वे शहर के एकमात्र सर्जन हैं जो उच्च स्तरीय लैप्रोस्कोपिक और पारंपरिक ओपन सर्जरी दोनों को सफलतापूर्वक करते हैं।

You may also like these